Gallery

Jhankia & Time Table

   History, Governance, Sewa, Aims &  More 

 Social Activities

Hindi

 Vishesh WORLD RECORD KIRITAN e - Pooja Online
Gajendra Moksha
Audio with Text
 
A Glimpse
of Monthwise Jhankis
The
Heritage

Govind-Jai-Jai Video
Audio

Clips

 

Ekadashi Dates

 

16-4-2019 Kamda Ekadashi
30-4-2019 Varuthini Ekadashi
15-5-2019 Mohini Ekadashi
30-5-2019 Apara Ekadashi
13-6-2019 Nirjala Ekadashi
29-6-2019 Yogini Ekadashi
12-7-2019 Dev-Shayani Ekadashi
28-7-2019 Kamika Ekadashi
11-8-2019 Pavitra Ekadashi
27-8-2019 Aja Ekadashi
9-9-2019 Jal-Jhulani Ekadashi
25-9-2019 Indira Ekadashi
9-10-2019 Papankusha Ekadashi
24-10-2019 Rama Ekadashi
8-11-2019 Dev-Uthani Ekadashi
23-11-2019 Utpanna (Vaitarni) Ekadashi
8-12-2019 Mokshda (Tarni) Ekadashi
22-12-2019 Safla Ekadashi
6-1-2020 Putrada Ekadashi
20-1-2020 Shat-tila Ekadashi
5-2-2020 Jaya Ekadashi
19-2-2020 Vijaya Ekadashi
6-3-2020 Anwala Ekadashi
20-3-2020 Pap-Mochini Ekadashi
 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

   
   
   
   
   
   
   
   
   
   
   
   
   
   
   

     हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे  हरे।।   

 
1. मोर मुकुट - भगवान के मुकुट में मोर का पंख है। यह
बताता है कि जीवन में विभिन्न रंग हैं। ये रंग हमारे जीवन के
भाव हैं। सुख है तो दुख भी है, सफलता है तो असफलता भी,
मिलन है तो बिछोह भी। जीवन इन्हीं रंगों से मिलकर बना है।
जीवन से जो मिले उसे माथे लगाकर अंगीकार कर लो।
इसलिए मोर मुकुट भगवान के सिर पर है।

2. बांसुरी - भगवान बांसुरी बजा रहे हैं, मतलब जीवन में
कैसी भी घडी आए हमें घबराना नहीं चाहिए। भीतर से
शांति हो तो संगीत जीवन में उतरता है। ऐसे ही अगर
भक्ति पानी है तो अपने भीतर शांति कायम करने का प्रयास
करें।

3. वैजयंती माला - भगवान के गले में वैजयंती माला है,
यह कमल के बीजों से बनती है। इसके दो मतलब हैं कमल के
बीच सख्त होते हैं, कभी टूटते नहीं, सड़ते नहीं,
हमेशा चमकदार बने रहते हैं। भगवान कह रहे हैं जब तक
जीवन है तब तक ऐसे रहो जिससे तुम्हें देखकर कोई दुखी न
हो। दूसरा यह माला बीज की है और बीज ही है
जिसकी मंजिल होती है भूमि। भगवान कहते हैं जमीन से जुड़े
रहो, कितने भी बड़े क्यों न बन जाओ, हमेशा अपने अस्तित्व
की असलियत के नजदीक रहो।

4. पीतांबर - पीला रंग सम्पन्नता का प्रतीक है।
भगवान कहते हैं ऐसा पुरुषार्थ करो कि सम्पन्नता खुद आप
तक चल कर आए। इससे जीवन में शांति का मार्ग खुलेगा