TIRUPATI Kalyan Mahotsava in JAIPUR, At Mandir Shri Govinddevji Satsang Bhavan

                       

                      
     Chaitanya Mahaprabhuji,

           The Six Goswamis,

        LORD Shri KRISHNA
 
                               &
     ADHYA SHAKTI RADHA RANI

         

                     

                     THE       MAJESTIC  SATSANG BHAWAN               
                              :( Structural Erection Gets Completed  ):
  
 Makes a World Record by being Included in the Guinness World Records
   
 

You Can be a Part of it by attaching yourself to the Noble Cause:
   
                                                                               

  You Can Donate by Cash, A/c. Payee Cheque, D/D or Pay Order made in the
name of  "Mandir Shri Govinddev Ji Maharaj, Jaipur"
.                                                                           
  You Can Donate Building Material & Furnishing Material,  such as Ropes,
Cement, Iron, Marble, Bajri, Rodi, Parat, Electricity Wire & Other related
material, Video Camera and all other allied materials which can be used ;
 

 

Please  Do obtain a Receipt for your Donation!                                               
  All Your Donations shall Qualify for Rebate & Deduction under section 80 G of Income Tax Act.  
                                                                                                         
 

The Satsang Bhawan shall have  a permanent Stage, well equipped & facilitated, it shall have a sitting capacity of roughly 5,000 devotees at  a time. The special features shall be :

*The Traditional Jaipuri Pink Colour  
*The Roof Size of 15827 sq.feet
*Majestic Stage 
*124 feet  by 119 feet in size
It Shall Be a Pillar Less Area inside, First of its Kind in the World
*Airy Hall

*Ceiling & Walls shall bear the Fascinating "Krishna Leela" Wall Paintings
  AND Different Daily Glimpses From Mangla to Shayan Jhankis
*Green Room
       
*Modern Sound System        

                                                                                                                         

  You May Contact Shri Anjan Kumar Goswami, The Sole Sewadhikari & The Sole Trustee, Thikana Mandir Shri Govinddevji Maharaj, Jai Niwas Gardens, JAIPUR.   Pin: 302 002.       Phone: 0141-2619413 (Office - Temple Premises)

_________________________________________________________________ 

 
 

 

 

 

 

 

 

 

 

                                      

                              

   

 
Above: Shri Roop Goswami (A picture available from the Old Pages)
Below :
The Glorious Olden days when the Maha Prabhuji's Shobha Yatra was Started by the late, Great Shri Pradhyumna Kumarji Goswami, reflect in the following photographs of those days....................................

            The Great Grand Divine Personality, Late Shri Pradhyumna Kumarji Goswami in the Shobha Yatra, bare feet

 

 

 

 

 

This page is

 Under

Process

Of Completion

 

 

रे

कृष्ण

रे

कृष्ण 


कृष्ण

कृष्ण

रे

रे

 

JANMASHTMI 2013 - Some glimpses  

 ह

रे

राम 

रे

राम

राम

राम 

रे 

 ह

रे

 

कर्मा बाई जी

प्रसंग १.-कर्म बाई जी भगवान को बाल भाव से भजती थी.बिहारी जी से रोज बाते किया करती थी. एक दिन बिहारी जी से बोली - तुम मेरी एक बात मानोगे.
भगवान ने कहा-कहो ! क्या बात है?
कर्म बाई जी ने कहा-मेरी एक इच्छा है कि एक बार अपने हाथो से आपको कुछ बनाकर खिलाऊ.

बिहारी जी ने कहा-ठीक है! अगले दिन कर्माबाई जी ने खिचड़ी बनायीं और बिहारी जी को भोग लगाया,जब बिहारी जी ने खिचड़ीखायी, तो उन्हे इतनी अच्छी लगी, कि वे रोज आने लगे. कर्मा बाई जी रोज सुबह उठकर सबसे पहले खिचड़ी बनाती बिहारी जी भी सुबह होते ही दौड़कर आते और दरवाजे से ही आवाज लगाते, माँ में आ गया जल्दी से खिचड़ी लाओ कर्मा बाई जी लाकर सामने रख देती भगवान भोग लगाते और चले जाते.

एक बार एक संत कर्माबाई जी के पास आये और उन्होंने सब देखा तो वे बोले आप सर्वप्रथम सुबह उठाकर खिचड़ी क्यों बनाती है, ना स्नान किया, ना रसोई घर साफ की, आप को ये सब करके फिर भगवान के लिये भोग बनाना चाहिये,अगले दिन कर्माबाई जी ने ऐसा ही किया.

जैसे ही सुबह हुई भगवान आये और बोले माँ में आ गया, खिचड़ी लाओ.
कर्मा बाई जी ने कहा-अभी में स्नान कर रही हूँ, थोडा रुको!थोड़ी देर बाद भगवान ने आवाज लगाई, जल्दी कर माँ, मेरे मंदिर के पट खुल जायेगे मुझे जाना है. वे फिर बोली - अभी में सफाई कर रही हूँ, भगवान ने सोचा आज मेरी माँ को क्या हो गया. ऐसा तो पहले कभी नहीं हुआ. भगवान ने झटपट जल्दी-जल्दी खिचड़ी खायी, आज खिचड़ी में भी वो भाव, स्वाद नहीं आया और बिना पानी पिए ही भागे, बाहर संत को देखा तो समझ गये जरुर इसी संत ने कुछ पट्टी पढाई होगी. पुजारी जी ने जैसे ही मंदिर के पट खोले तो देखा भगवान के मुख से खिचड़ी लगी थी. वे बोले- प्रभु! ये खिचड़ी कैसे आप के मुख में लग गयी.

भगवान ने कहा-पुजारी जी आप उस संत के पास जाओ और उसे समझाओ, मेरी माँ को कैसी पट्टी पढाई. पुजारी जी ने संत से सारी बात कही और संत घवराए और तुरंत कर्मा बाई जी के पास जाकर कहा- कि ये नियम धरम तो हम संतो के लिये है आप तो जैसे बनाते थी वैसे ही बनाये. अगले दिन से फिर उन्होंने वैसे ही बनाना शुरु कर दियाऔर भगवान बड़े प्रेम से प्रतिदिन आते और खिचड़ी खाते.
एक दिन कर्मा बाई जी मर गयी तो भगवान बहुत रोये. जो पुजारी जी ने पट खोला भगवान रो रहे थे. पुजारी जी ने पूछा - आप क्यों रो रहे हो, तो भगवान बोले - पुजारी जी! आज मेरी माँ मर गयी. अब मुझे कौन खिचड़ी बनाकर 
खिलायेगा पुजारी जी बोले प्रभु आज से आप को सबसे पहले रोज खिचड़ी का भोग लगेगा इस तरह आज भी जगन्नाथ भगवान को खिचड़ी का भोग लगता है.